विदेशों से 165 सहित 1,000 से अधिक कंपनियां, लखनऊ में सबसे बड़े डेफ एक्सपो के लिए इकट्ठा होंगी
January 28, 2020 • Mr Arun Mishra

> 35 देशों के रक्षा मंत्रियों और सेवा प्रमुखों ने डेफएक्सपो के लिए अपनी भागीदारी की पुष्टि की है।

> उ प्र सरकार ने प्रस्तावित बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के साथ एक रक्षा विनिर्माण गलियारा बनाने की योजना बनाई है।

> लाइव डिस्प्ले प्रदर्शनी स्थल पर और गोमती रिवर फ्रंट पर होगा।

> विभिन्न प्लेटफार्मों पर प्रसारित हो रही है, डिफेन्स एक्सपो टीज़र फिल्म।

> आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, रोबोटिक्स, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, ड्रोन्स, वायर्ड वॉरियर आदि पर चर्चा सेमिनार के माध्यम से होंगी।

नई दिल्ली (का ० उ ० सम्पादन)। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में 5-9 फरवरी, 2020 के बीच होने वाली द्विवार्षिक मेगा डिफेन्स प्रदर्शनी के 11 वें संस्करण डेफ एक्सपो 2020 में भाग लेने के लिए पंजीकृत कंपनियों की संख्या 1,000 तक पहुंच गई है। चेन्नई में आयोजित डेफ एक्सपो 2018 में 702 कंपनियों ने भाग लिया था। इस प्रकार, यह भारत में होने वाला अब तक का सबसे बड़ा डेफ एक्सपो बन गया है। भाग लेने वाली विदेशी कंपनियों की संख्या भी 160 के पिछले आंकड़े से बढ़कर 165 हो गई है। डेफ एक्सपो 2020 के लिए प्रदर्शकों द्वारा बुक की गई प्रदर्शनी का स्थान पिछले संस्करण के दौरान लगभग 26,774 की तुलना में 60 प्रतिशत बढ़कर 42,800 वर्ग मीटर हो गया है। 35 देशों के रक्षा मंत्रियों और सेवा प्रमुखों ने डेफएक्सपो के लिए अपनी भागीदारी की पुष्टि की है। एक्सपो के दौरान पर्याप्त संख्या में मेमोरेंडा ऑफ अंडरटेकिंग (एमओयू) की उम्मीद की जा रही है, जिसके परिणामस्वरूप नए व्यापारिक सहयोग स्थापित होंगे। एक्सपो का विषय इंडिया: द इमर्जिंग डिफेंस मैन्युफैक्चरिंग हब है। इसका उद्देश्य रक्षा क्षेत्र में अग्रणी प्रौद्योगिकियों को एक छत के नीचे लाना और सरकारी, निजी विनिर्माण और स्टार्टअप के लिए अवसरों का एक असंख्य मंच प्रदान करना है। यह आयोजन देश के एयरोस्पेस, डिफेन्स और सिक्योरिटीज हितों के पूरे स्पेक्ट्रम को कवर करेगा। प्रदर्शनी का उप विषय 'डिफेंस का डिजिटल परिवर्तन' है जो भविष्य के युद्ध के मैदान की अवधारणा के साथ संरेखित करता है। नई प्रौद्योगिकियों के अनुप्रयोग के माध्यम से एयरोस्पेस और रक्षा क्षेत्र के लिए विनिर्माण पर भी ध्यान केंद्रित किया जाएगा। सेवाओं द्वारा उत्पादों और प्रौद्योगिकियों और लाइव प्रदर्शनों को प्रदर्शित करने के अलावा, रक्षा पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग्स   और डिफेंस उद्योग लैंड, नेवल, एयर और आंतरिक सुरक्षा प्रणालियों का प्रदर्शन करेंगे। इंडिया पवेलियन ’विशेष रूप से सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के बीच संयुक्त प्रदर्शन करेगा, जिसमें लघु और मध्यम उद्यम (एसएमई) / सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (एमएसएमई) और नवाचार इको-सिस्टम शामिल हैं, जो आगे बढ़ने की कुंजी है। डेफ एक्सपो स्थल पर एक विशाल उत्तर प्रदेश पैवेलियन होगा। औद्योगिक प्रगति और निवेशकों के लिए बड़ी क्षमता प्रदर्शित करने के अलावा, यूपी सरकार उत्तरी राज्य की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को प्रदर्शित करने वाले कई सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन करेगी। आगंतुकों के लिए एक अनूठा अनुभव टेंट सिटी में योजनाबद्ध है, जिसे विशेष रूप से कार्यक्रम स्थल पर खड़ा किया जा रहा है। केंद्र सरकार ने उत्तर प्रदेश में छह नोड्स की पहचान के साथ रक्षा औद्योगिक गलियारा स्थापित किया है। एक रक्षा योजना समिति भी बनाई गई है। इस संबंध में, यूपी सरकार ने प्रस्तावित बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के साथ एक रक्षा विनिर्माण गलियारा बनाने की योजना बनाई है जो भारत को रक्षा उत्पादन के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने में मदद करेगा। डेफ एक्सपो क्षेत्र में न केवल निवेश बल्कि अत्याधुनिक तकनीकों को आकर्षित करने में एक उत्प्रेरक की भूमिका निभाएगा। डेफ एक्सपो 2020 में 70 से अधिक देशों से भागीदारी देखने की उम्मीद है और यह अंतरराष्ट्रीय रक्षा प्रदर्शनियों के सबसे बड़े भाग के अनुरूप होगा। सेवाओं, रक्षा सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों और उद्योग के लाइव प्रदर्शन, जो लैंड, नेवल, एयर और आंतरिक सुरक्षा प्रणालियों को दिखाते हैं। लाइव प्रदर्शन दो स्थानों पर आयोजित किया जाएगा। एक प्रदर्शनी स्थल पर और दूसरा गोमती रिवर फ्रंट पर। गोमती रिवर फ्रंट डिस्प्ले के दौरान पर्यावरण को कोई नुकसान नहीं होगा। अंतर्राष्ट्रीय और भारतीय उद्योग मंडलों दोनों द्वारा व्यावसायिक सेमिनार आयोजित किए जा रहे हैं। कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ इंडियन इंडस्ट्रीज़, फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री, पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री, नेशनल स्किल डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन, SYNERGIA, मानकीकरण निदेशालय (डिपार्टमेंट ऑफ़ स्टैंडर्डाइजेशन / डिपार्टमेंट ऑफ़ डिफेन्स प्रोडक्शन, यूएस-इंडिया बिजनेस काउंसिल, यूएस-इंडिया स्ट्रेटेजिक पार्टनरशिप फोरम, आदि सेमिनार विषय भविष्यवादी हैं और इसमें आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, रोबोटिक्स, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, ड्रोन्स, वायर्ड वॉरियर आदि पर चर्चा शामिल है। पहली बार डेफ एक्सपो ऐप 27 दिसंबर, 2019 को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा जारी किया गया था जो कि ऐप्पल ऐप स्टोर और एंड्रॉइड प्ले स्टोर पर उपलब्ध है। ऐप की मुख्य विशेषताएं सूचित करना, संलग्न करना और प्रतिक्रिया देना है। यह दिन-प्रतिदिन की घटनाओं के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करता है; भाग लेने वाले प्रदर्शक; डीपीएसयू, सेमिनार / वेबिनार के अतिथि वक्ता; प्रकाशन यानी इलेक्ट्रॉनिक ब्रोशर और ई-पुस्तकें; स्थानों और शहर के मौसम के नक्शे और दिशाएँ। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 5 जनवरी 2020 को लखनऊ में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ डेफ एक्सपो 2020 की तैयारियों की समीक्षा की। रक्षा मंत्री ने समीक्षा बैठक के दौरान एक टीज़र फिल्म भी जारी की और इसे प्रदान करने के लिए विभिन्न प्लेटफार्मों पर प्रसारित किया जा रहा है। घटना में अप करने के लिए डिफ एक्सपो की शुरूआत।