योग दर्शन के आध्यात्मिक स्वरूप से भारतीय संस्कृति की सनातन परंपरा का विस्तार विश्व के कोने-कोने तक होगा : केशव प्रसाद मौर्य
June 21, 2020 • Mr Arun Mishra
 
लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने रविवार 21 जून को अपने लखनऊ आवास 7 कालिदास मार्ग पर अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर शरीर को स्वस्थ रखने के लिए प्रातः योग, प्राणायाम व शारीरिक व्यायाम किया। उप मुख्यमंत्री ने देश व प्रदेशवासियों को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की शुभकामनाएं देते हुए कहा की योग भारतीय सनातन संस्कृति एवं प्राचीन सभ्यता से जुड़ा हुआ है। इसकी जड़ें पौराणिक युग से निकली हैं। भारतीय सनातन संस्कृति एवं अध्यात्म में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अनेक मायने हैं। हम सभी को योग के भौतिक स्वरूप का ही अनुकरण नहीं करना है बल्कि इसके आध्यात्मिक स्वरूप को भी अपनाना होगा। उन्होंने कहा कि आज हमारे इस दर्शन को पूरा विश्व अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मना रहा है। ऐसे में योग दर्शन के आध्यात्मिक स्वरूप से भारतीय संस्कृति की सनातन परंपरा का विस्तार विश्व के कोने-कोने तक होगा और जिस विश्व गुरु का सपना हर भारतवासी ने देखा, उसमें यह योग मील का पत्थर साबित होगा। योग की महत्ता और उसके महत्व पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि करोना संकटकाल में योग की महत्ता पहले से कहीं ज्यादा बढ़ गई है। योग से आत्मविश्वास व मनोबल बढ़ता है तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में भी योग मदद करता है। हम सबको हमेशा योग के लिए समय जरूर निकालना चाहिए। योग से संयम व शक्ति मिलती है। उन्होंने कहा कि दुनिया में, योग दिवस के प्रति उत्साह बढ़ा है। उन्होंने अपील की कि कोरोना महामारी से निपटने के लिए सभी लोग योग करके अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाएं। उन्होंने कहा कि लोग देश के लिए एकजुट होकर योग की दिशा में आगे बढ़ें। अपनी दिनचर्या को सही करें। उन्होंने कहा कि योग को अपने जीवन का हिस्सा बनाएं। यह मन,  मस्तिष्क सबको दुरुस्त रखता है। हर परिस्थिति में अडिग रहने की शक्ति देता है। योग से शारीरिक बीमारियां तो दूर होती ही हैं, मानसिक तनाव भी कम होता है। योग शरीर के साथ मानसिक उत्थान का सबसे बड़ा मार्ग निर्धारक है।